कवि परिचय – केशवदास | KESHAV DAS JIVAN PARICHAY

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

केशव दास जी का साहित्य परिचय निम्नलिखित बिंदुओं के आधार पर लिखिए – (१) दो रचनाएं ,  (२) भाव पक्ष – कला पक्ष , (३) साहित्य में स्थान।

                        

 

रचनाएं- 
                  वीर चरित्र , विज्ञान गीता , कवि प्रिया ,  रसिक प्रिया।
भाव पक्ष- 
                केशवदास की रचनाओं में परिस्थिति अनुसार रसों की निष्पत्ति हुई है।  शांत रस निर्वेद की दशा में है। केशवदास दरबारी कवि थे। इनकी कविता में नैतिक मूल्यों की रक्षा की गई है।
कला पक्ष-
             केशव दास ने अपनी ग्रंथों की रचना ब्रजभाषा में ही की है। कहीं-कहीं इनकी रचनाओं में दुरूहता आ गई है। केशव दास ने उपमा रूपक उत्प्रेक्षा आदि अलंकारों का अपनी काव्य में प्रयोग किया है।
  केशव लक्षण ग्रंथों के रचयिता रहे हैं।
  केशव के संवाद योजना बेजोड़ हैं। 
 
 
 
साहित्य में स्थान- 
                     केशव दास जी हिंदी के प्रमुख आचार्य हैं उनकी समस्त रचनाएं शास्त्रीय रीतिबद्ध है। अपने लक्षणों ग्रंथों के लिए वे सदा स्मरणीय रहेंगे। 
 
 

✅Next Post –

इसे पढ़े :-  Mp Board : निबंध - कोरोना वायरस / कोविड-19 / किसी महामारी का वर्णन

MP Board 10th 12th Exam 2021 : MPBSE एमपी बोर्ड मैं 10वीं 12वीं प्रैक्टिकल परीक्षाओं को लेकर दिए यह दिशानिर्देश

9वी व 11वीं की रिजल्ट अर्धवार्षिक परीक्षा के आधार पर बनाया जाएगा

निबंध – कोरोना वायरस / कोविड-19 / किसी महामारी का वर्णन

Leave a Reply

error: Content is protected !!