काव्य गुण : अर्थ , परिभाषा और प्रकार ( Kavya Gun : Arth, Paribhasha Aur Swaroop )

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Kavya Gun : Arth, Paribhasha Aur Swaroop :

काव्य गुण : अर्थ , परिभाषा और प्रकार ( Kavya Gun : Arth, Paribhasha Aur Swaroop )

                    श्रृकशा में माधुर्य गुण, वीभरौ वि में ओज |

                    अहवा में है प्रसाद गुण, याद करो सब लोग ||

 

काव्य गुण किसे कहते हैं –                                          

       काव्य के नित्य धर्म काव्य गुण कहलाते हैं। ये तीन प्रकार के होते है-

                    1 माधर्य गुण     2  प्रसाद गुण   3 ओज गुण

 

 1.  माधुर्य गुण –

        सहदय के साथ ह्दय द्रवित हो जाता है, वहां मधुर्य भाव उत्पन्न होता है। 

                           अथवा

         जिस काव्य के गुण विशेष के कारण सह्रदय का चित्र मधुरता से भर जाता है, वहां मधुर्य गुण होता है। 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

                      इसमें- श्रृंगार, शान्त, करूण रसो का प्रयोग होता है।

इसे पढ़े :-  कवि परिचय- सूर्यकांत त्रिपाठी ' निराला ' - Suryakant Tripathi ' Nirala ' Biography in Hindi

 

उदाहरण-

        बीती विभावरी जाग री।

      अबर पनघट में डुबों रही-

       तारा-घट ऊषा-नागरी।

 

2.  प्रसाद गुण –

            सह्दय के साथ ह्दय लिप्त हो जाय , वहाॅ प्रसाद भाव जाग्रत होता है।

                                       अथवा

           काव्य के जिस गुण विशेष के कारण सह्दय के चित्त में अर्थ पूरे के पूरा समा  (रुक ) जाता हैं। उसे प्रसाद गुण कहतें हैं।

                 यह सभी रसों में पाया जाता है।

डदाहरण-

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

     1 बुंदेले हरबोलो के मुख हमने सुनी कहानी थी।

     2 हे प्रभो आनन्द दाता ! ज्ञान हमको दीजिए।

 

3 ओज गुण-

    सह्दय के साथ ह्दय दीप्त हो जाए , वहाॅ ओज भाव होता हैं।

                     अथवा

 काव्य के जिस गुण के कारण सह्दय के चित्त में तेज का संचार हो जाता हैं। उसे ओज गुण कहतें हैं।

                इसमें वीर, रौद्र, वीभत्स रसों का प्रयोग होता है।

उदाहरण-

इसे पढ़े :-  हरिवंश राय बच्चन जी का कवि परिचय | Harivansh Rai Bachchan ka kavi parichay in hindi

    1  महलों ने दी आग, झौंपडियां में ज्वाला सुलगाई थी,

        वह स्वतन्त्रता की चिनगारी, अन्तरतम् से आई थी।

    2    एक क्षण भी न सोचों कि तुम होगे नष्ट

         तुम अनश्वर हो  ! तुम्हारा भाग्य है सुस्पष्ट।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

 

काव्य की परिभाषा,kavya ki paribhasha,काव्य गुण की परिभाषा एवं भेद बताइए,काव्य गुण,काव्य गुण की परिभाषा एंव उदाहरण सहित,प्रसाद गुण की परिभाषा,काव्य गुण और दोष,प्रसाद गुण की परिभाषा एवं भेद,काव्य गुण ओज प्रसाद व माधुर्य,काव्य गुण -माधूर्य गुण प्रसाद गुण ओज गुण,#काव्य गुण के कितने प्रकार होते है #माधुर्य काव्य गुण #madhurya gun,# प्रबन्ध काव्य परिभाषा ओर भेद,माधुर्य गुण की परिभाषा,# काव्य की परिभाषा,पाठ्यपुस्तक का अर्थ परिभाषा,# मुक्तक काव्य परिभाषा

 

✅Next Post –

MP Board 10th 12th Exam 2021 : MPBSE एमपी बोर्ड मैं 10वीं 12वीं प्रैक्टिकल परीक्षाओं को लेकर दिए यह दिशानिर्देश

Leave a Reply

error: Content is protected !!